Short Motivational Stories With Moral | Positive Thinking Stories

Short Motivational Stories With Moral in Hindi

This motivational stories is based on the truth of self behavior. These story is completely based on those person who used some harassed word for other but they came on his own family. So I request please read this post if you agree to this motivational stories than share it in your friends circle and also comment in the comment box below.


Motivational Stories—4

 

#हंस_मत_पगली_____प्यार_हो_जाएगा
“”क्या हंसना ही लड़कियों के लिए सबसे बड़ा गुनाह है “”??
#हंसी_तो_फंसी” – पूरे देश में ट्रकों, बसों, आॅटो, रिक्शों के पीछे ये बेहद #अपमानजनकबात लिखी होती है।
लेकिन हैरानी तो यह है कि आज तक कभी किसी को लगा नहीं कि ये उनकी ही #औरतों का अपमान है।

“”अपनी ही माँ बहनों का शील हरण है।””


लेकिन चूतिया बोल दीजिए तो हजार लोग #सदाचार का झंडा उठाए, क्रांति करने आ जाएंगे।
लगेंगे तमीज, तहजीब का सनातनी भाषण देने।

#चूतिया बस एक गाली है।
महामूर्ख को संबोधित बस एक गाली… इकलौती गाली।

लेकिन ‘हंसी तो फंसी’ एक विचार है, एक अवधारणा।
एक इरादा है, एक सूत्र वाक्य, एक संकल्पना जिससे समाज संचालित होता है। अपमान भरी ये संकल्पना किसी गाली से ज्यादा बड़ा #दुराचार है, उससे लाख गुणा ज्यादा खतरनाक।

गाली सिर्फ आवाज है, पर ये तीन शब्द बेआवाज कयामत और कहर हैं। हद तो यह है कि इससे किसी भी #भद्र व्यक्ति को कोई दिक्कत नहीं।

Inspirational Short Stories About Life

तमीज की शिक्षा देने वालों को ये बात कभी समझ नहीं आई कि इस तीन शब्दों में, गाली की कितनी मोटी किताब छिपी है। #महिलाओं के लिए कितना अपमान और उनके लिए कितनी ही घिन से भरी #बदसलूकी हैं.. “इन तीन शब्दों में। दरअसल चिंचियाते ये चरखे, कभी इन शब्दों के बीच की चीख, सुन ही नहीं पाते।
इसके कहर का अंदाजा ही नहीं होता,
माटी के इन #संवेदनशून्य पुतलों को।

हम सब अपनी बेटियों को ये #सलाह देते हैं…
वही सलाह, जो हमारी दादी ने हमारी बुआ को, हमारी नानी ने हमारी माँ और मौसी को।
जो हमारी माँ ने हमारी बहनों को दीं थी।

उन्होंने हर बार एक ही बात कहीं-
” लड़कियों को #हंसी ठिठोली नहीं करनी चाहिए।”

लेकिन वही लड़की, जब साली, भाभी , सरहज के रिश्तों में आ जाती है, तो सारा कुछ खुलेआम होना चाहिए।

#छिछोरपन की कोई सीमा नहीं रहनी चाहिए।
क्योंकि अब वो शादीशुदा हैं और आजाद हैं।
और ये रिश्ते तो मजाक के हैं,

ऊपर से अब उन लड़कियों को कोई खतरा नहीं,
कि अब उनका एक मर्द है… ‘मर्द’।

“दरअसल बेमर्द औरत को हंसने का हक ही नहीं है,
चाहे वो कुंवारी हो या विधवा।

क्योंकि उससे मर्दो का #शीलहरण हो जाता है,
उनकी मर्यादा खतरे में पड़ जाती है।

लेकिन मर्दोंवालिया भी जब किसी अनजान व्यक्ति के साथ हंसती हुई ‘पकड़ी’ जाती हैं तब भी तो मर्दों की मर्यादा को खतरा हो जाता है।

उनके संयम पर सवाल उठने लगता है।
उनसे काबू में नहीं रहा जाता।

Short Motivational Stories With Moral

 

फिल्म ‘पिंक’ में श्री अमिताभ बच्चन के किरदार का एक संवाद है।

“हमारी पूरी कोशिश ही गलत है।
इतने बरसों से हमने काम ही उल्टा किया हुआ है।
दरअसल हमें अपनी लड़कियों को नहीं,
लड़कों को बचाने की जरूरत है।”

बात तो सही है कि हमेशा लड़के ही खतरे में पड़ते हैं।

उनका मन डोल जाता है,
#सवा साल की बच्ची पर भी,
और #सत्तर साल की बुढ़िया पर भी।

हंसती लड़की को देख उनका ईमान इतना खराब हो जाता है, उनकी ठरक इतनी बेकाबू हो जाती है कि वो लड़की की हंसी से, ये समझ लेते हैं कि वो हंसी, दरअसल उनकी ठरक मिटाने के लिए ही, लड़की की सहमति का इशारा है।

“तो संयम उनके अपनी ठरक पर नहीं है…
और नियंत्रण लड़कियों पर करना है,,,??

होना तो उल्टा चाहिए ना, कि बचाव लड़को का हो!
खतरा तो उनके संयम को है। मन और तन तो उनका बेकाबू में नहीं रहता, तो पाबंदियां भी उनपर हो, उनके लिंग, शिश्न, और हाथ को जंजीरों से जकड़ कर रखा जाए।
उनके मुंह को सी दिया जाए कि हंसती लड़की को देख उनके मुंह से कुछ #फब्तियां निकल ही जाती है।
मुंह तो उनके काबू में नहीं रहता है।

लेकिन ये समाज #चितखोपड़ी है… (उल्टी खोपड़ी… )

Motivational Stories For Students & Adults

बारिश से भींगने का खतरा होने पर,
बरसात को क्यों नहीं रोकते?
धूप से बचने के लिए छप्पर डाल लेते हैं।
सूर्य को क्यों नहीं बांधते,
बादलों पर लगाम क्यों नहीं लगाते?

लड़कियों की हंसी की तरह बादल, मेघ, धूप भी तो कुदरती चीज हैं, जिनसे खतरा है।

“हंस मत पगली, प्यार हो जाएगा!”
ये वाक्य दरअसल, उल्लास यानी हंसी, मां यानी लड़की और जीवन की जरूरत यानी प्यार…
तीनों के लिए बेहद अपमान भरा,
किसी भी भद्दी गाली से ज्यादा भद्दा गालीनुमा वाक्य है।

तो पहले ये सीधी सी सरल लगते वाक्यों के पीछे चल रही परंपरा और स्थापित कायदों पर काबू कीजिए।
ये तीन शब्द हमारी आपकी सभी के परिवार की महिलाओं के मुंह पर जूती है और… थप्पड़ है,

उसके बाद और भी समझ लीजिए जो किसी #पोर्नों में बेधड़क होता है। ये तीन शब्द उन सभी मानसिकताओं की कहानी का सबसे अश्लील शीर्षक है।

जिसे कोई छिछोरा इस्तेमाल कर हमारी बेटियों को, हमारी बहनों, मांओ, पत्नी और प्रेमिकाओं को धमका रहा है। हमारी वीरता देखिए कि हम शेर बन,
सीना ताने कहीं और घूम रहे हैं,,,,,,

(कुछ शब्दों के लिए आप सभी से माफ़ी चाहूंगा।)

1 thought on “Short Motivational Stories With Moral | Positive Thinking Stories”

  1. Pingback: Inspirational Stories in Hindi | Motivational Stories - Hindi Digital

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *