Police Dialogue in Hindi | Film Dialogue

Police Dialogue In Hindi

 

मुझे जो सही लगता है मैं करता हूँ …
वो चाहे भगवान् के खिलाफ हो…
समय के खिलाफ हो,
पुलिस ,
कानून या फिर पूरे सिस्टम के खिलाफ क्यों ना हो

झख मरती है पुलिस,
उतार कर फेंक दो यह वर्दी
और पहन लो बलवंत राय का पट्टा अपने गले में …
यु बास्टर्ड्स

यह तुम जानती हो कि यह रिवाल्वर खाली है …
मैं जानता हूँ की यह रिवाल्वर खाली है …
लेकिन पुलिस नहीं जानती कि यह रिवाल्वर खाली है

जब तक बैठने को न कहा जाए शराफत से खड़े रहो …
यह पुलिस स्टेशन है …
तुम्हारे बाप का घर नहीं

यह कमांडो बड़ा खतरनाक है …
तुम्हारा बाप है

हम अंग्रेज़ों के ज़माने के जेलर है

Hindi Attitude Dialogues

 

गुंडे और गुण्डागर्दी यही से जनम लेते है …
जिससे आप पुलिस स्टेशन कहते है

मुजरिम माँ के पेट पे कम …
पुलिस स्टेशन के गेट पे ज़्यादा बनते है

जब खाकी का रंग सही हो न …
तोह चाहे उसे मर्द पहने या औरत …
तुम जैसे नामर्दों को चुटकी में
उसकी औकात दिखा देती है

बचपन से भाग ही रहा हूँ …
पहले स्कूल से भागा …
भूख लगी तोह रोटी चुराकर भागा ..
भाई बना तोह पुलिस से बचकर भागा …
जहाँ बैठना था वहां भागा,जहाँ चलना था वहां भागा …
जहाँ भागना था वहां कुत्ते के माफिट भाग ही रहा हूँ …
अपुन की अखि लाइफ भागने में ही निकल गयी

पुलिस वाले को ठोकने का अंजाम पता है क्या है? …
इक्कीस साल जेल और ठुकाई अलग से …
और उसी पुलिस वाले ने अगर तुम्हे ठोक्का,
तोह प्रमोशन अलग से और बहादुरी का मैडल भी

इस वर्दी का रंग खाकी किस लिए है पता है? …
क्यों की यह रंग उस मिटटी का भी है
जिसमें हर पोलिसवाले मिलने के लिए भी
और मिलाने के लिए भी तैयार है

 

Police Status in hindi

 

आज के बाद किसी ईमानदार अफसर को बेईमान बनाने की कोशिश मत करना …
वर्ना किसी दिन किसी ईमानदार अफसर की खोपड़ी घूम गयी …
तोह वह सारी की सारी गोलियां तेरी खोपडी के आर – पार कर देगा

इन्फोर्मेर्स पुलिस वाले के तीसरे कान होते ह

यह इंस्पेक्टर न बिना ब्रेक का बुलडोज़र है …
एक बार चलता है न तोह रुकता नहीं है

अरे क्या बचाव बचाव चिल्लारेला है …
इज़्ज़त लूट रहे है क्या तेरी? …
पुलिस पुलिस चिल्लानेका

जब तक एक भाई बोल रहा है, एक भाई सुन रहा है …
जब एक मुजरिम बोलेगा, एक पुलिस अफसर सुनेगा

मैं तेरे इस काले कलर पे लाल रंग से इस तरह से मेरा नाम लिखूंगा …
जिस तरह से पोलिसवाले कागज़ पर गैंग वॉर के रिपोर्ट टाइप करते हैं

 

ऐसा तोह आदमी लाइफ में दो-हीच टाइम भागता है …
ओलिंपिक का रेस हो यह पुलिस का केस हो …
तुम काहे में भागता है भाई?

हो आप वर्दी वाले …
पर आपके तेवर है गुंडों वाले

साले इन लोगों को डीजल फोकट में मिलता है क्या …
पूरे डिपार्टमेंट की गाड़ियां मेरे पीछे पड़ी है

जब एक आम मजबूर आदमी पुलिस का बारे में सोचे …
तोह उससे भरोसे और मज़बूती का एहसास होना चाहिए

तुमने पुलिस की वर्दी कहाँ पहन रखी है …
यह तोह एक कफ़न है जो तुम्हारे ज़मीर की लाश ने पहन रखा है

तुम जैसे गुंडों के लिए …
पुलिस से बड़ा गुंडा इस दुनिया में दूसरा कोई नहीं

यह चोर और पुलिस की जो दोस्ती होती है न
बड़ी मुश्किल से होती है …
और जब होती है तो अटूट होती है

बाजार में बहती तवाइफ़ और आपके कानून के रखवालों में कोई फर्क नहीं है …
फर्क है तोह सिर्फ इतना,
की वह अपना जिस्म बेचती है और यह अपना ईमान

(कौन हो तुम?) …
ज़ुल्म के अँधेरे में कानून की रौशनी को जलाकर …
मासूमों को ज़िन्दगी देकर …
ज़ालिमों को मौत की नींद सुलाने वाले …
इंस्पेक्टर रंजीत कुमार

मुझे भी गिरफ्तार कर लो न …
प्यार की हथकड़ी लगाकर दिल के लॉक अप में क़ैद कर लो न

मैं तुम्हे इतनी आसानी से नहीं मरने दूंगा …
मैं तुम्हारे खून के एक एक कतरे से …
पुलिस के हर उस ज़ुल्म का बदला लूँगा जोह मुझपर हुआ है

मैं शहर की दहशत को मिटाने के लिए
कानून के एक ऐसे मुहाफ़िज़ को तैनात करूंगा …
जोह कानून की आन के लिए अपनी जान भी दे सकता है …
जोह वर्दी की शान के लिए दोनों जहाँ से लड़ सकता है

अगर तुमने चालाकी करने की कोशिश की,
या पुलिस को खबर की …
तो मैं तुम्हारी बेटी के छोटे छोटे टुकड़े करके …
तुम्हे छै महीने तक इन्सटॉलमेंट की सूरत में भेजता रहूंगा

तू पुलिस वाला नहीं भड़वा है …
जोह कानून को रुंडी बनाकर गुंडों के हाथों में बेचता है

जिस वर्दी को आप रखैल समझते है …
वही वर्दी आपको अरेस्ट करेगी …
और खींचकर ले जाएगी उस ही जनता के सामने
जिसके पावर का आपने बलात्कार किया है

हम जैसा पुलिस वाला सर पर टोपी नहीं,
कफ़न बांध्ता है …
ताकि तुम जैसे हत्यारों को …
कानून की जंजीरों में जकड़कर …
मौत के अंधे कुएं में धकेल सके

मैं खुद पुलिस वाला नहीं हूँ
लेकिन कानून का एक ऐसा सिपाही हूँ …
जोह खुद पुलिस की वर्दी नहीं पहनता …
बल्कि मौत की वर्दी पहनाता है गुनहगारों को

इंस्पेक्टर साब कानून और फ़र्ज़ के रखवाले बाद में बनना …
पहले दिल के रखवाले बनो

वर्दी का नाजायज़ फायदा उठाकर जुर्म की हुकूमत करने वाले
अगर तुम जैसे शैतान इस देश में मौजूद है …
तोह इसी वर्दी के लिए अपना सर कटाने वाले जांबाज़ भी इस देश में मौजूद है

जैसा सिचुएशन तूने पैदा किया है न …
उसके लिए दो हीच जगह है …
हॉस्पिटल या पुलिस स्टेशन

 

(ऐसे बिना सबूत के पुलिस क्या कर सकती है?) …
ग़ुलाम अली की कद तेरी जेब में डालके न ISI का एजेंट बना सकती है पुलिस …
तुम्हारी फोटो ब्यूटी पार्लर के सामने खींचके लौंडियों का डल्ला बना सकती है पुलिस …
जॉनसन बेबी पाउडर आवे है,
उसकी पुड़िया तेरी जेब में डालके न ड्रग का स्मगलर बन सकती है पुलिस …
और तोह और
तेरी शकल पुलिस वाले से स्केच करवाके
ओसामा बिन लादेन से मिला सकती है पुलिस

मुद्दा यह नहीं है की मैं जीतूं या हारूं …
मुद्दा यह भी नहीं है की मैं जीयों या मार दिया जाओं …
मुद्दा यह है कि एक पुलिस अफसर होने के नाते मेरा जोह फ़र्ज़ है …
उससे में ईमानदारी से निभा रहा हूँ या नहीं …
एक इंसान होने ने नाते सत्य के लिए,
सत्य की विजय के लिए मैं लड़ रहा हूँ या नहीं

जिसके दिल में मौत का डर होता है …
उसके जिस्म पर यह वर्दी नहीं होती

तुम्हे चारो तरफ से घेर लिया गया है
अपने आप को पुलिस के हवाले कर दो

अब तक तुम इस वर्दी की अहमियत को समझ नहीं पाए हो …
क्यों की तुम एक ऐसे दीमक हो जिसने
इस पुलिस स्टेशन की दीवारों को इतना खोकला कर दिया है …
की कोई मामूली सा लड़का इससे तोड़ सकता है

अगर तूने उन पुलिसवालो का कोई गेम नहीं किया …
तोह मैं तेरी पूरी नसल का गेम कर डालूंगा

 

Hindi Attitude Dialogues

 

यहाँ की पुलिस मारती नहीं …
इलेक्ट्रिक शॉक देती है

अभी तक बहुत से पुलिस अफसरों की रगों में …
अंग्रेज़ों की पिलाई हुई शराब की बू बाकि है

हमारे लिए एक मुर्दा पुलिस अफसर,
एक ज़िंदा पुलिस अफसर से ज़्यादा काम का होता है

आप पुलिस अधिकारी नहीं …
मूर्ख अधिकारी है

पुलिस वाले मेरा नाम सुनके मरते है

मेरा फ़र्ज़ इस वर्दी का मोहताज नहीं है …
यह वर्दी तोह महज़ एक मयान है
जिस में मैं अपने फ़र्ज़ की तलवार महफूज़ रखता हूँ

जिस दिन पुलिस और फ़ौज तुम लोगों की रखैल बन जायेगी न …
उस दिन यह सारा मुल्क एक रंडीखाना बन जायेगा …
और जैसे चाकले चलते है न …
उसी तरह तुम इस देश को बेच डालोगे

यह खाकी वर्दी पेहेनके सिर्फ दो ही मतलब है …
या तोह ज़ुल्म को ख़ाक में मिला दो …
या शहीद होकर खुद ख़ाक में मिल जाओ

सच और सचाई में फर्क होता है …
और सच यह है कि
हर पुलिस वाले का धरम है की वह निस्वार्थ भाव से देश की सेवा करे …
लेकिन सच्चाई यह है की 8,500 की इस तन्खा में देश सम्भालो,
घर संभालो, ईमान सम्भालो

मेरेको दामाद थोड़ा हटके चाहिए …
ऐसा जिसको देख के पब्लिक सड़क पे से हट जावे …
पुलिस स्टेशन से पुलिस हत जावे …
और मोहल्ले में से बड़े से बड़ा गुंडा फट जावे

आरोपी के खिलाफ चार्ज शीट पहले पक्की करता हूँ …
हाथ बाद में डालता हूँ

Bollywood Dialogues

 

आज मैं तुझे किसी अदालत में पेश करने के लिए गिरफ़्तार नहीं करूंगा …
आज मैं तुझे उस ऊपर वाले की अदालत में पहुंचाऊंगा जहाँ तुझ जैसे हरामजादों का फैसला …
बगैर बहस के होता है

पुलिस वालों को सिर्फ दो लोग पहचान सकते है …
एक तोह खुद पुलिस वाले …
दूसरा चोर

तुम पुलिस खरीद सकते हो कुछ हद तक …
मालूम है यहाँ नेता बिकाऊ है,
हुकूमत की मचिनी बिकाऊ है कुछ हद तक …
तुम कानून और इंसाफ तक को खरीद सकते हो कुछ हद तक …
लेकिन याद रखना वोह हाध मुझपर आकर खत्म हो जाती है …
तुम सब कुछ खरीद सकते हो लेकिन
एक सच्चे ईमानदार पुलिस अफसर की ईमानदारी नहीं खरीद सकते

यह वर्दी महज़ सूद का दग़ा नहीं …
हिंदुस्तान की इज़्ज़त है

हम है पुलिस की नाक के बाल,
इन्साफ की ढाल,
हवालदार बांकेलाल …
चल दो रुपए निकाल

अगर पुलिस के पास जाकर शानपट्टी करने की कोशिश की …
तोह कान के नीचे कैप्सूल लगा दूंगा

यह पुलिस स्टेशन है …
यहाँ मुजरिम नहीं,
कानून बोलता है

हमारे जैसे पुलिस अफसर की मौत पर,
देश का झंडा झुक जाता है …
हाँ जिस दिन तेरी मौत कानून के हाथों होगी,
एक कुत्ता भी रोने नहीं आएगा

पुलिस को तुम जैसे नौजवानों पर नाज़ है

हम पुलिस वाले जिस दिन यह वर्दी पहन लेते है न …
उस ही दिन से पुलिस वालों और
मौत का रिश्ता कुछ आस पास का ही हो जाता है

यहाँ खाकी वर्दी का नहीं …
गुंडागर्दी का राज चलता है

गुनहगार उस वक़्त तक मशहूर रहता है
जब तक पुलिस ढील देती है …
लेकिन जब पुलिस कानून की रस्सी खींचती है
तोह बड़े बड़े मुजरिमों के
गले में फाँसी का फन्दा होता है

Hindi Dialogues

 

अगर मेरे भाई के जिस्म पर इतनी सी भी ख़राश ायी न …
तोह मैं तुम्हारा और तुम्हारे भाइयों का वह हाल करूंगा …
की पूरे शहर की पुलिस तुम लोगों के मुंह पर थूकना भी पसंद नहीं करेगी

अल्ला रे अल्ला इंस्पेक्टर भिण्डे अल्ला …
हाथ में लेके कानून का टाला

तुम्हारी बिल्डिंग को पुलिस ने चारों तरफ से घेर रखा है …
और अगर मैं दो मिनट के अन्दर अन्दर यहाँ से बाहर नहीं गया …
तोह तुम्हारी और इस बिल्डिंग की धज्जियाँ उड़ा दी जाएँगी

एक मुजरिम के लिए कानून वाले के दिल में
कभी प्यार पैदा नहीं हो सकता

खून के सारे रिश्ते
एक सच्चे पुलिस ऑफिसर के लिए
उसी दिन खत्म हो जाते हैं …
जिस दिन यह वर्दी पहनता है

पुलिस मेरे पीछे लगी हुई है

पुलिस स्टेशन और हॉस्पिटल कोई मर्ज़ी से नहीं जाता है …
एक बार जोह पहुँच गया तोह उसकी वापसी की गारंटी नहीं

मैं जानता हूँ कि तुम्हारे हाथ बहुत लम्बे है,
बहुत ऊपर तक जाते है …
लेकिन खाकी के सामने खादी की ताक़त दिखाने की कोशिश मत करो …
क्यों की मैं यह खाकी उतारकर खादी पहन सकता हूँ …
लेकिन तुम्हारे नेता खादी उतारकर खाकी नहीं पहन सकते

 Attitude Status in Hindi – 2 lines

खाकी वर्दी अगर कानून का डंडा है तोह काला कोट कानून का हाथ है …
और हमेशा डंडा हाथ के गिरफ्त में होता है

हम जैसों के मरने पे हज़ारों सैकड़ों लोग कन्धा देने आएँगे …
और आप जैसे बिकाऊ पुलिस वाले की अर्थी उठाने के लिए चार लोग भाड़े पे बोलने पड़ेंगे

अमेरिका की पुलिस को खून होने के दो घंटे के पश्चात पता चलता है …
और रूस की पुलिस को साढ़े-तीन के पश्चात …
और चीन की पुलिस को छे घंटे के पश्चात …
मगर हमारी पुलिस को खून होने के चौबीस घंटे पहले पता होता है की …
कब, कहाँ, किस व्यक्ति का खून होने वाला है …
और कौनसा मनुष्य इस शुभ कार्य को सम्पन करने वाला है

Dialogues Writing In Hindi

 

एक पुलिस अफसर ड्यूटी पर महज़ एक पुलिस अफसर होता है …
वहां न कोई बहन होती है,
न भाई होता है …
वहां न कोई रिश्ता ही होता है और न ही कोई नाता

मेरा नाम है इंस्पेक्टर नटवरलाल भिंड …
खाता हूँ छे-छे अंडे …
और चोरों को मारता हूँ लम्बे चौड़े डंडे

इस शहर में हर पुलिस वाले का औरत
अपना मर्द का लम्बी उम्र के लिए करवा चौथ का नहीं …
बब्बन का व्रत रखता है

मैं आपके एक एक पाप, एक एक जुर्म का पता लगाऊंगा …
और जब तक पुलिस आपको अदालत नहीं ले जाती
और अदालत आपको जेल नहीं भेजती ….
मैं लिखूंगा, मैं छापूंगा

CID वाले शक़ के धागों से ही यकीन का घर बनाते है … जो बाद में मुजरिम के लिए क़ैद खाना बन जाता है

ऐसा मत कर हवलदार …
मुझको अन्दर मत कर मेरे यार …
मेरा भाई है बड़ा शक्ति शाली …
बजा देगा वह तेरी ताली …
उसके बाद तेरा हो जायेगा मोटा पेट खाली

तुम्हारी जगह कोई काबिल अफसर होता तोह
FIR – फर्स्ट इनफार्मेशन रिपोर्ट होती …
फेक इनफार्मेशन रिपोर्ट नहीं

तुम जैसे अफसरों ने रक्षक और राक्षश …
दो अलग अलग शब्दों का मतलब एक कर दिया है

इस गली में आज तक कोई पोलिसवाले नहीं आया …
तुम आ गए हो …
तोह वापस नहीं जाओगे

1 thought on “Police Dialogue in Hindi | Film Dialogue”

  1. Pingback: Police Status in Hindi - Whatsapp and Facebook - Facebook and Instagram

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *